Thu. May 30th, 2024

UNIT 3. परमाणु एवं अणु || Atom and Molecules

                                      पाठ 3 . परमाणु एवं अणु 

अध्याय – समीक्षा 

  • किसी पदार्थ का वह मुल पदार्थ जिसे सरलीकृत नहीं किया जा सके तत्व कहलाता है | जैसे – हइड्रोजन , कार्बन , ऑक्सीजन , आयरन , चाँदी और सोना आदि |
  • पदार्थ का वह सूक्ष्मतम कण जिसे और आगे विभाजित नहीं किया जा सके वह परमाणु कहलाता है |
  • एक ही तत्व या भिन्न – भिन्न के दो या दो से अधिक परमाणुओं के समूह जो रासायनिक से एक दूसरे से बंधे होते है अणु कहलाते है | उदहारण : O2 , H2 , N2 , H2O , CO2 , MgCl2 इत्यादि |
  • अणु जो एक से अधिक तत्वों से मिलकर बना है यौगिक कहलाता है | उदहारण : H2O , CO2 , NH3 , BrCl2 , CH4  इत्यादि |
  • किसी तत्व के सबसे छोटे कण परमाणु होते है | जैसे – हाइड्रोजन के परमाणु ( H) , ऑक्सीजन के परमाणु  ( O ) , कार्बन के परमाणु  ( C ) , मैग्नीशियम के परमाणु  ( Mg ) इत्यादि |
  • द्रव्यमान संरक्षण का नियम  : द्रव्यमान संरक्षण के नियम के अनुसार किसी रासायनिक अभिक्रिया में द्रव्यमान का नहीं तो सृजन होता है और नहीं विनाश होता है  |
  • निश्चित अनुपात का नियम  : किसी भी यौगिक में तत्व सदैव एक निश्चित द्रव्यमान के अनुपात में विद्यमान  होते है |
  • दिए गए तत्व के सभी परमाणुओं का द्रव्यमान एवं रासायनिक गुणधर्म समान होते है |
  • डाल्टन के परमाणु सिद्धांत में परमाणु द्रव्यमान सबसे विशिष्ट संकल्पना थी और उनके अनुसार प्रत्येक तत्व का एक अभिलाक्षणिक परमाणु द्रव्यमान होता है |
  • भिन्न – भिन्न तत्वों के परमाणुओं के द्रव्यमान एवं रासायनिक गुणधर्म भिन्न – भिन्न होते है |
  • परमाणु द्रव्यमान  इकाई : किसी तत्व के सापेक्षिक परमाणु द्रव्यमान को उसके परमाणुओं के औंसत द्रव्यमान का कार्बन – 12 परमाणु के 1/12 वे भाग के अनुपात को परमाणु द्रव्यमान इकाई कहते है |
  • किसी तत्व या यौगिक का अणु उस तत्व या यौगिक के सभी गन धर्म को प्रदर्शित करते है |
  • एक ही तत्व के परमाणु अथवा भिन्न – भिन्न तत्वों के परमाणु परस्पर संयोग करके अणु निर्मित करते है |
  • आर्गन ( Ar ) , हीलियम  ( He ) इत्यादि जैसे अनेक उत्कृष्ट ( गैसें ) तत्वों के अणु उसी तत्व के केवल एक परमाणु द्वारा निर्मित होते है | अतः ये एक पर्मानुक होते है क्योंकि उत्कृष्ट गैसरन  किसी भी तत्व से यहाँ तक की खुद से भी नहीं करते है |
  • किसी अणु संरचना में प्रयुक्त होने वाले परमाणुओं की संख्या को उस अणु की परमानुकता  है | जैसे – ऑक्सीजन के अणु  ( O2 ) की परमानुकता 2 है | , फॉस्पोरस के अणु  ( P4 ) की परमानुकता 4 है | 
  • कुछ तत्व जैसे ऑक्सीजन  , हइड्रोजन और क्लोरीन आदि अपने दो परमाणुओं से अणु बनाते है | ऐसे तव को द्विपरमानुक अणु कहते है उदहारण : (a) हाइड्रोजन (H2) (b) ऑक्सीजन  (O) |
  • वह अणु जो तीन परमाणुओं से मिलकर बना होता है त्रि-परमाणुक अणु कहलाते है | जैसे – ओजोन (O3) |
  • किसी तत्व के वें अणु जिसमें चार पर्मानुहोते हैं चतुरपरमाणुक अणु कहलाता है  | जैसे – फॉस्फोरस (P4) |
  • किसी तत्व के वें अणु  जिसमें परमाणुओं की संख्या चार से अधिक हप बहुपरमानुक अणु कहलाता है | जैसे – (a) सल्फर (S8) |
  • किसी परमाणु में प्रोट्रॉन तथा इलेक्ट्रॉन बराबर संख्या में होते हैं |
  • अक्रिय गैस को छोड़कर सभी परमाणुओं का इलेक्ट्रॉनिक रचनाएँ अस्थायी होते हैं |
  • परमाणु स्वतंत्र रूप से अस्तित्व में नहीं रह सकते हैं |
  • परमाणु अस्तित्व में बने रहने के लिए इलेक्ट्रोन्स की साझेदारी करते हैं |
  • आयन विद्युत् आवेशित कण होते हैं |
  • आयनों कस इलेक्ट्रॉनिक रचनाएँ स्थायी होते हैं |
  • आयन स्वतंत्र रूप से अस्तित्व में रह सकते है |
  • आयनिक यौगिकों में पहला धातु (metal) होता है जो धनायन (cation) बनता हैं और दूसरा तत्व अधातु (non-metal) होता हैं जो ऋणायन (anion) बनता हैं |
  • मोल एक प्रकार से बहुत सरे परमाणुओं का ढेर (heap) हैं | जिसमें किसी भी तत्व के परमाणुओं , अणुओं अथवा आयनों की संख्या 6.022×10^23 होता  हैं |
  • मोल पदार्थ की वह मात्रा हैं जिसमें कणों की संख्या ( परमाणु , आयन , अणु , या सूत्र इकाई इत्यादि ) कार्बन – 12 के ठीक  12 g  में विद्यमान परमाणुओं के बराबर होती हैं  |
  • किसी पदार्थ के एक मोलमें कणों ( परमाणु , अणु , अथवा आयन ) की संख्या निश्चित होती है | जिसका मन 6.022 क्ष 10^23 होता है | इसी संख्या को आवोगाद्रो संख्या कहते हैं |
  • किसी तत्व के परमाणुओं के एक मोल का द्रव्यमान कोमोलर द्रव्यमान कहते हैं | परमाणुओं के मोलर द्रव्यमान को ग्राम परमाणु द्रव्यमान भी कहते हैं |

 

अभ्यास – प्रश्न

Q1. अमोनिया में हाइड्रोजन के कितने परमाणु होरते है ? 

उत्तर – 4

 Q2. डाल्टन ने अपनी जीविका किस रूप में शुरू की ?

उत्तर – शिक्षक के रूप में

Q3. परमाणुओं का वह पुंज जो आयन की तरह व्यवहार करता है क्या कहलाता हैं ?

उत्तर – बहुपरमाणूक आयन

Q4. एक अधातु का नाम जिसकी संयोजकता 1 होती है ?

उत्तर – हाइड्रोजन , क्लोरीन

Q5. एक नैनो मीटर कितने मीटर के बराबर होता है ?

उत्तर – 10^-9 m

Q6. कार्बन के किस समस्थानिक को परमाणु द्रव्यमान ईकाई का मात्रक बनाया गया है ?

उत्तर – कार्बन – 12

Q7. हाइड्रोजन के अनु की परमानुकता क्या है ?

उत्तर – द्विपरमानुकता

Q8. कार्बन का एक परमाणु अभिक्रिया के दौरान क्लोरीन के कितने परमाणुओं से बंध ( अणु ) बनाएगा 

उत्तर – 4

Q9. 18 ग्राम जल में कितना मोल होगा ?

उत्तर – 1 मोल

Q10. एक अधातु जिसका एटॉमिक नंबर 7 है ?

उत्तर – नाइट्रोजन

Q11. Anion ( ऋणायन ) जो 2- इलेक्ट्रान होल्ड करता है ?

उत्तर – ऑक्साइड (O^2-)

Q12 . स्थिर अनुपात का नियम देने वाले वैज्ञानिक का नाम क्या है ?

उत्तर – जे . एल . प्राउस्ट

Q13 . AMU का पूरा नाम क्या है ?

उत्तर – एटॉमिक मास यूनिट ( Atomic mass unit )

Q14 . हाइड्रोजन को अपना अष्टक पूरा करने के लिए कुलकीटने इलेक्ट्रान होने चाहिए ?

उत्तर – 2

Q15 . उस वैज्ञानिक का नाम जिन्होंने परमाणु सिद्धांत दिया ?

उत्तर – डाल्टन

Q16 . IUPAC क्या काम करता है ?

उत्तर – तत्वों के नाम एवं प्रतिक चिन्ह प्रदान करता है

Q17 . परमाणु त्रिज्या मापने की ईकाई को क्या कहते है ?

उत्तर –  नैनोमीटर ( nm )

Q18 . डाल्टन के परमाणु सिद्धांत के अनुसार परमाणु की परिभाषा लिखिए ?

उत्तर – सभी द्रव्य चाहे , यौगिक या मिश्रण हो सूक्ष्म कणों से बने होते है जिन्हे परमाणु कहते है

Q19 . आयन क्या है ? यह कितने प्रकार का होता है ?

उत्तर – अणु या परमाणु के आवेशित कण को आयन कहते है

यह दो प्रकार का होता है |

(i) धनायन (ii) ऋणायन

Q20 . आणविक द्रव्यमान से आप क्या समझते है ? 

उत्तर – किसी पदार्थ का आणविक द्रव्यमान उसके सभी संघटन परमाणुओं के द्रव्यमान का योग होता है | इस प्रकार यह अणु का वह सापेक्ष द्रव्यमान है जिसे परमाणु द्रव्यमान ईकाई द्वारा व्यक्त किया जाता है |

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *