Thu. May 30th, 2024

UNIT 2 . क्या हमारे आस-पास के पदार्थ शुद्ध है।

                                क्या हमारे आस-पास के पदार्थ शुद्ध है।

अध्याय-समीक्षा :

  • समान रासायनिक प्रकृति के पदार्थों को जो एक ही प्रकार के कणों से बने होते हैं. शुद्ध पदार्थ कहते है।
  • मिश्रण (Mixture) : दो या दो से अधिक शुद्ध पदार्थों के मेल से बने पदार्थ को मिश्रण कहते हैं। | जैसे- जल  में चीनी, रक्त वायु और बालू नमक का मिश्रण आदि ।
  • समुद्र का जल, खनिज ,  मिटटी आदि सभी मिश्रण के उदाहरण हैं।
  • किसी पदार्थ को अन्य प्रकार के तत्वों में भौतिक प्रक्रम द्वारा अलग नहीं किया जा सकता है। ये शुद्ध पदार्थ होते हैं जैसे- सोडियम क्लोराइड, चीनी आदि।
  •  तत्व (Element) : तत्व किसी पदार्थ का यह मूल रूप होता है जो एक ही प्रकार के रासायनिक प्रकृति के बने होते हैं और जिसे किसी भी भौतिक या रासायनिक प्रक्रम के द्वारा अलग नहीं किया जा सकता है। तत्व कहलाता है। जैसे लोहा, ऑक्सीजन, सल्फर, सोना, चांदी आदि ||
  • यौगिक  (Compound) : दो या दो से अधिक तत्वों के मेल से एक निश्चित अनुपात में रासायनिक  प्रक्रिया द्वारा बने पदार्थ को यौगिक कहते है। जैसे – जल , नमक , चीनी एवं कार्बन-डाईऑक्साइड  आदि यौगिक है।
  • समांगी मिश्रणः वह जिसकी बनावट समान हो तथा इसके कणों को अलग -अलग नहीं पहचाना जा सके समानी मिश्रण कहते है जैसे नमक और जल का घोल विषमांगी मिश्रण : वह मिश्रण जिसके अंश भौतिक रूप से अलग होते है और इसके कणों को अलग- अलग पहचाना जा सकता है, विषमांगी मिश्रण कहलाता है। जैसे लोहे के बुरादे और बालू का मिश्रण
  • दो या दो से अधिक पदार्थों के समांगी मिश्रण को विलयन कहते है।
  • विलयन पदार्थ के तीनों अवस्थाओं में पाया जाता है। जैसे – ठोस मिश्रधातु , द्रव – निम्बू पानी , गैस – वायु |
  • विलयन के कण समान रूप से वितरित रहते है. अर्थात इसके कणों को अलग-अलग पहचाना नहीं जा सकता है | जैसे – निम्बू – चीनी पानी में एक ही स्वाद होता है

अभ्यास -प्रश्नः

Q1. शुद्ध पदार्थ से आप क्या समझते है ?

उत्तर: वह पदार्थ जिसमें मौजूद सभी कण समान रासायनिक प्रकृति के हैं तथा एक ही प्रकार के कणों से मिलकर बना होता है। शुद्ध पदार्थ कहलाता है।

Q2. समांगी और विषमांगी मिश्रणों में अंतर बताएँ ।

उत्तर:

 समांगी मिश्रण

1. इसके संघटकों की बनावट समान होती है।
2. इसके विभिन्न अवयवों के बीच स्पष्ट पृथकन सीमाएं नहीं होती है।
3. उदाहरण – शक्कर या चीनी का विलयन |

विषमांगी मिश्रण

  1. इसके संघटकों की बनावट भौतिक दृष्टि से अलग होती है।
  2.  इसके विभिन्न अवयवों के बीच पृथकन सीमाएं होती है।
  3.  उदाहरण – सोडियम क्लोराइड और लोहे की छीलन

 

Q3. विलयन, निलंबन और कोलाइड एक दूसरे से किस प्रकार भिन्न है ?

उत्तर:
विलयन :

(i) विलयन दो या दो से अधिक पदार्थों का समांगी मित्रण है।
(ii) इसके कणों में समांगिकता होती है।
(iii ) इसके कण इतने सूक्ष्म होते हैं कि आंख से नहीं देखे जा सकते हैं।
(iv) विलयन में प्रकाश का मार्ग दिखाई नहीं देता
(v) छानने की विधि द्वारा विलेय के कणों को विलयन से पृथक नहीं किया जा सकता है।
(vi) यह स्थाई होता है।

निलंबन:

(1) यह एक विषमांगी मित्रण है।
(ii) इसके कणों में समांगिकता नहीं होती है।
(111) इसके कण बड़े होते है और ये आँखों से देखे जा सकते है।
(iv) इनके निलंबित कण के किरण को फैला देते है।
(v) इन्हें छानने की विधि से अलग किया जा सकता है।
(vi) मे अस्थाई होते हैं |

कोलाइड:
(i) यह भी एक विषमांगी मिश्रण है।
(ii) इसके कणों में भी समांगिकता नहीं होती है।
(iii) इनका आकार छोटा होने के कारण इन्हें आँखों से देखा नहीं जा सकता है।
(iv) ये प्रकाश के मार्ग को दृश्य बनाते है और प्रभाव दिखाते हैं?
(v) छानने की विधि से इसके कणों को पृथक नहीं किया जा सकता है।
(vi) ये भी अस्थाई होते हैं।

Q3. पृथक करने की सामान्य विधियों के नाम दें:

(i) दही से मक्खन,

(ii) समुद्री जल से नमक,

(iii) नमक से कपूर

उत्तर-
(i) अपकेंद्रण (Centrifugation),

(ii) वाष्पीकरण (Evaporation),
(iii) ऊर्ध्वपातन (Sublimation)

Q4. क्रिस्टलीकरण विधि से किस प्रकार के मिश्रणों को पृथक किया जाता है?

उत्तर- क्रिस्टलीकरण विधि का प्रयोग ठोस पदार्थों को शुद्ध करने में किया जाता है। उदाहरण के लिए, समुद्री जल से प्राप्त नमक में बहुत-सी अशुद्धियाँ होती है, जिन्हें दूर करने के लिए क्रिस्टलीकरण विधि का उपयोग किया जाता है।

Q6. अपने आस-पास की चीजों को शुद्ध पदार्थों या मिश्रण से अलग करने का प्रयत्न करें।

उत्तर- शुद्ध पदार्थ ताँबा, सोना, नमक, चीनी, आसवित जल (Distilled water), चाँदी, लोहा, हीरा, ऐल्कोहॉल आदि ।

मिश्रण (Mixture)- नल का जल, दूध, वायु, स्टील, नमक का घोल, मिट्टी का तेल, आइसक्रीम, सोने से बने आभूषण पीतल, कौसा (Brass) इत्यादि ।

Q7. निम्नलिखित को पृथक करने के लिए आप किन विधियों को अपनाएँगे?

(a) सोडियम क्लोराइड को जल के विलयन से पृथक् करने में।
(b)
अमोनियम क्लोराइड को सोडियम क्लोराइड तथा अमोनियम क्लोराइड के मिश्रण से पृथक करने
(c)
धातु के छोटे टुकड़े को कार के इंजन ऑयल से पृथक करने में।
(d)
दही से मक्खन निकालने के लिए।
(e)
जल से तेल निकालने के लिए।
(f)
चाय से चाय की पत्तियों को पृथक् करने में।
(g)
बालू से लोहे की पिनों को पृथक करने में।
(h)
भूसे से गेहूँ के दानों को पृथक करने में।
(i)
पानी में तैरते हुए मिट्टी के महीन कण को पानी से अलग करने के लिए।
(i)
पुष्प की पंखुड़ियों के निचोड़ से विभिन्न रंजकों को पृथक करने में ।

उत्तर-

(a) वाष्पन या वाष्पीकरण विधि
(b) ऊर्ध्वपातन
(c) निस्पंदन या छानन विधि (Filtration method)
(d) अपकेंद्रण (Centrifugation) विधि
(e) पृथक्करण कीप (Separating funnel) विधि
(f) छानन (Filtration) विधि
(g) चुंबकीय पृथक्करण (Magnetic Separation) विधि
(h) फटकन (Winnowing) विधि
(i) भारण (Loading) [ फिटकरी (alum) का उपयोग करके
(i) क्रोमैटोग्राफी।

Q8. चाय तैयार करने के लिए आप किन-किन चरणों का प्रयोग करेंगे? विलयन, विलायक, विलेय, घुलना, घुलनशील, अघुलनशील, घुलेय (फिल्ट्रेट) तथा अवशेष शब्दों का प्रयोग करें।
उत्तर-
1. सर्वप्रथम एक पात्र में एक कप पानी विलायक के रूप में लीजिए।
2. इसमें चीनी डालिए जो एक विलेय पदार्थ है।
3. आपको जल तथा चीनी का विलयन प्राप्त होगा क्योंकि चीनी जल में घुलनशील है।
4. अब इसमें एक या आधा चम्मच चाय की पत्ती डालिए जो जल में एक अघुलनशील विलेय है तथा इसे उबालिए।
5. इसमें एक कप दूध डालकर लगभग 5 मिनट तक पुनः उबालिए ।
6. अब एक छननी (Strainer) से इसे छानिए आपको चाय घुलेय (Filtrate) तथा चाय की पत्तियाँ छननी के ऊपर अवशेष के रूप में प्राप्त होंगी। > NCERT Book notes:

Q9. निम्न की उदाहरण सहित व्याख्या करें:
(a) संतृप्त विलय
(b)
शुद्ध पदार्थ
(c)
कोलाइड
(d)
निलंबन
उत्तर-
(a) संतृप्त विलयन (Saturated Solution): जब किसी दिए गए ताप पर किसी विलेय की और अधिक मात्रा उस विलायक में नहीं घुल सकती तो उस विलयन को संतृप्त विलयन कहा जाता है।
(b) शुद्ध पदार्थ (Pure Substance) : शुद्ध पदार्थ वह है जो एक ही प्रकार के कणों से मिलकर बना होता है तथा उसमें मौजूद सभी कण समान रासायनिक प्रकृति के होते हैं, जैसे सोना, चाँदी आदि।

(c) कोलाइड (Collaid) : कोलाइड विलयन वे हैं, जिनमें विलेय के कणों का आकार विलयन से बड़े परंतु निलंबन से छोटे (1nm और 100 nm के बीच) होते हैं। इनके विलेय कणों को खुली आँखों (naked eyes) से नहीं देखा जा सकता है तथा ये स्थायी होते हैं। कोलाइड टिंडल प्रभाव उत्पन्न करते हैं, जैसे-रक्त, दूध, फेस क्रीम, मक्खन इत्यादि ।

(d) निलंबन (Suspension) : निलंबन एक विषमांगी मिश्रण है, जिसमें विलेय पदार्थ के कण घुलते नहीं हैं,बल्कि माध्यम की समष्टि में निलंबित रहते हैं। ये निलंबित कण आँखों से देखे जा सकते हैं। यदि मिश्रण को कुछ देर तक बिना हिलाए छोड़ दें तो ठोस कण नीचे बैठे जाता है, जैसे कीचड़ का पानी, रेत का पानी, चॉक पाउडर तथा पानी, पानी में चूना पत्थर इत्यादि ।

Q10. निम्नलिखित से प्रत्येक को समांगी और विषमांगी मिश्रणों में वर्गीकृत करें सोडा जल, लकड़ी, बर्फ, वायु, मिट्टी, सिरका, छनी हुई चाय।

उत्तर समांगी मिश्रण : सोडा जल, बर्फ, वायु, सिरका, छनी हुई चाय

विषमांगी मिश्रण: लकड़ी, मिट्टी।

Q11. आप किस प्रकार पुष्टि करेंगे कि दिया हुआ रंगहीन द्रव शुद्ध जल है?

 उत्तर यदि वायुमंडलीय दबाव पर दिया हुआ रंगहीन द्रव 100 C पर उबलता है तो हम कह सकते हैं कि दिया गया रंगहीन द्रव शुद्ध जल है, क्योंकि शुद्ध पदार्थों के क्वथनांक तथा गलनांक निश्चित (Fixed) होते हैं।

Q12. निम्नलिखित में से कौन-सी वस्तुएँ शुद्ध पदार्थ हैं?
(a) बर्फ
(b)
दूध
(c)
लोहा
(d)
हाइड्रोक्लोरिक अम्ल
(e)
कैल्सियम ऑक्साइड
(f)
पारा
(
g) ईंट
(h)
लकड़ी
(i)
वायु

उत्तर- निम्नलिखित वस्तुएँ शुद्ध पदार्थ हैं:
(a) बर्फ
(c) लोहा
(d) हाइड्रोक्लोरिक अम्ल
(e) कैल्सियम ऑक्साइड
(f) पारा

Q13. निम्नलिखित मिश्रणों में से विलयन की पहचान करें।
(a) मिट्टी
(b)
समुद्री जल
(c)
वायु
(d)
कोयला
(e)
सोडा जल

उत्तर दिए गए मिश्रणों में से विलयन है:
(b) समुद्री जल
(e) सोडा जल

Q14. निम्नलिखित में से कौन टिनडल प्रभाव को प्रदर्शित करेगा?.
(a) नमक का घोल
(b)
दूध
(c)
कॉपर सल्फेट का विलयन
(d)
स्टार्च विलयन

उत्तर-
(b) दूध तथा
(d) स्टार्च विलयन, क्योंकि ये कोलाइड विलयन है।


Q15. निम्नलिखित में से कौन-कौन से परिवर्तन रासायनिक हैं?
(a) पौधों की वृद्धि
(b)
लोहे में जंग लगना
(c)
लोहे के चूर्ण तथा बालू को मिलाना
(d)
खाना पकाना
(e)
भोजन का पाचन
(f)
जल से बर्फ बनाना
(g)
मोमबत्ती का जलना

उत्तर- रासायनिक परिवर्तन हैं।

(a) पौधों में वृद्धि
(b) लोहे में जग लगना
(c) खाना पकाना
(d) भोजन का पाचन
(e) मोमबत्ती का जलना

 

 

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *